असम में बोले पीएम मोदी: गर्व है BJP की सरकार के समय ही असम के दो सपूतों भारत रत्न देने का काम किया गया

नई दिल्ली: Lok Sabha Elections 2019: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज यानी शनिवार को पूर्वोत्तर के दौरे पर हैं, जहां वह तीन जनसभा को संबोधित करेंगे. पीएम नरेंद्र मोदी पूर्वोत्तर के दो दिवसीय दौरे पर हैं. पीएम मोदी अरुणाचल प्रदेश, असम और त्रिपुरा में तीन जनसभा को संबोधित करेंगे. इससे पहले प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के शुक्रवार शाम शहर पहुंचने और हवाई अड्डे से राजभवन जाने के दौरान ऑल असम स्टूडेंट यूनियन (आसू) के सदस्यों ने काले झंडे दिखाए और नागरिकता संशोधन विधेयक के खिलाफ नारेबाजी की. आसू सदस्यों ने गुवाहाटी विश्वविद्यालय के गेट पर प्रधानमंत्री को उस समय काले झंडे दिखाए जब वह लोकप्रिय गोपीनाथ बारदोलोई अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा से शाम करीब साढ़े छह बजे राजभवन की ओर जा रहे थे. 

असम के अमीनगांव में पीएम मोदी : 

– पीएम मोदी ने कहा कि नागरिकता संशोधन का विषय सिर्फ असम या नॉर्थ ईस्ट से जुड़ा नहीं है, बल्कि देश के अनेक हिस्सों में मां भारती पर आस्था रखने वाली ऐसी संताने हैं, ऐसे लोग हैं जिनको अपनी जान बचाकर भारत आना पड़ा है. चाहे वो पाकिस्तान से आए हों, अफगानिस्तान से आए हों या फिर बांग्लादेश से, ये 1947 से पहले भारत का ही हिस्सा थे, जब आस्था के आधार पर देश का विभाजन हुआ. पीएम ने कहा कि हमसे अलग हुए देशों में जो अल्पसंख्यक यानि हिंदू, सिख, जैन, बौद्ध पारसी और ईसाई, वहां रह गए थे उनको संरक्षण देना हमारा दायित्व है.

– असम और उत्तर पूर्व के लोगों के साथ मेरा विशेष लगाव है. आपका स्नेह और आशीर्वाद मेरे लिए बहुत महत्वपूर्ण है. जितना अधिकार आपका मुझ पर है, उतना ही दायित्व मेरा भी आपके प्रति है.

– ये पूरा देश देख रहा है कि चौकीदार की चौकसी से कैसे भ्रष्टाचारी बौखलाए हुए हैं और सुबह-शाम मोदी-मोदी के नाम की रट लगाए हुए हैं.

– हमें खुशी होती अगर भूपेन दा जिंदा होते और अपने हाथ से भारत रत्न लेते, लेकिन वे नहीं हैं. इसके लिए जिम्मेदार कौन हैं, ये आप तय करें.

– आज नॉर्थ ईस्ट के विकास में नया इतिहास जुड़ रहा है. थोड़ी देर पहले ही असम और नॉर्थ ईस्ट के विकास से जुड़े हज़ारों करोड़ के प्रोजेक्ट्स का लोकार्पण, उद्घाटन और शिलान्यास किया गया है.

– इस बार बजट में असम समेत पूरे नार्थ-ईस्ट पर विशेष जोर दिया गया है. इस बार असम सरकार के बजट की भी काफी चर्चा हो रही है. पीएम मोदी ने कहा कि BC और AD यानि बिफोर कांग्रेस और आफ्टर डायनेस्टी का ही गौरवगान करने वालों से मैं आज यहां से पूछना चाहता हूं कि आखिर आपने भारत के सच्चे रत्नों को न पहचानने का कुटिल खेल दशकों तक क्यों खेला.

– मुझे गर्व है कि भारतीय जनता पार्टी की सरकार के समय ही असम के दो सपूतों, गोपीनाथ बोरदोलोई और भुपेन हजारिका को भारत रत्न देने का काम किया गया है

अरुणाचल प्रदेश में जनसभा को संबोधित करते प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी:

-पीएम मोदी ने कहा कि हमारी सरकार की विकास की पंचधारा है. 

  1. बच्चों की पढ़ाई, 
  2. युवा को कमाई, 
  3. बुजुर्गों को दवाई, 
  4. किसान को सिंचाई और 
  5. जन-जन की सुनवाई सुनिश्चित करने के लिए काम कर रही है

-केंद्र सरकार देश के हर क्षेत्र की संस्कृति, भाषा, खान-पान, रहन-सहन को संरक्षित करने, उनका और विकास करने के लिए प्रतिबद्ध है. यही कारण है कि हमारी सरकार ने अरुणाचल की संस्कृति को ताकत देने के लिए यहां के अपने 24 घंटे के टीवी चैनल अरुण प्रभा को लॉन्च किया गया है: PM मोदी

-अरुणाचल के लिए ना तो प्रकृति ने कोई कमी छोड़ी है और ना ही अध्यात्म और आस्था से जुड़े स्थानों की यहां कमी है. नए एयरपोर्ट बनने से, नई रेल लाइन बिछने से, यहां देश विदेश के टूरिस्टों की संख्या भी बढ़ेगी. इससे युवाओं के लिए रोज़गार के अनेक नए अवसर बनेंगे: PM मोदी 

-मैं अरुणाचल प्रदेश को सौभाग्य योजना के तहत करीब हर परिवार तक बिजली पहुंचाने के लिए बहुत बधाई देता हूं. आज अरुणाचल ने जो हासिल किया है वो बहुत ही जल्द पूरे देश में होने वाला है. सौभाग्य योजना के तहत देश में करीब 2.5 करोड़ परिवारों के घरों से अंधेरे को दूर किया जा चुका है: PM मोदी

– विकास की इसी कड़ी में आज अरुणाचल में एक साथ दो एयरपोर्ट का उद्घाटन और शिलान्यास हो रहा है. अरुणाचल प्रदेश के लिए तो ये और भी अहम अवसर है, क्योंकि आज़ादी के इतने वर्षों तक यहां एक भी ऐसा एयरपोर्ट नहीं था जहां नियमित रूप से बड़े यात्री जहाज़ उतर पाएं: PM मोदी

-सबका साथ, सबका विकास के इस मंत्र पर चलते हुए, बीते साढ़े 4 वर्षों में अरुणाचल और उत्तर पूर्व के विकास के लिएना तो फंड की कमी आने दी गई और ना ही इच्छाशक्ति की: PM मोदी

-मैं बार-बार कहता आया हूं कि न्यू इंडिया तभी अपनी पूरी शक्ति से विकसित हो पाएगा, जब पूर्वी भारत, नॉर्थ ईस्ट का तेज़ गति से विकास होगा. ये विकास संसाधनों का भी है और संस्कृति का भी. ये विकास अलग-अलग क्षेत्रों को जोड़ने का भी है और दिलों को जोड़ने का भी: PM मोदी

-आज अरुणाचल प्रदेश में 4 हजार करोड़ से ज्यादा रुपये की परियोजनाओं का शिलान्यास और लोकार्पण करने का अवसर मिला. कनेक्टिविटी तो सुधरेगी ही राज्य के पावर सेक्टर को भी मजबूती मिलेगी. स्वास्थ्य सेवाओं की सेहत बेहतर होगी और अरुणाचल की संस्कृति को भी बढ़ावा मिलेगा: पीएम मोदी

आसू सदस्यों के एक अन्य समूह ने कुछ मिनट के बाद तेजी से जा रहे मोदी के काफिले को काले झंडे दिखाये. इस दौरान ‘मोदी वापस जाओ’, ‘नागरिकता संशोधन विधेयक वापस लो’ जैसे नारे लगाए गये. लोकसभा में आठ जनवरी को नागरिकता संशोधन विधेयक 2019 पारित किये जाने के बाद मोदी पहली बार असम के दौरे पर हैं. सबसे पहले पीएम अरुणाचल. फिर असम और आख़िर में त्रिपुरा में रैली करेंगे. पीएम के दौरे से पहले नागरिकता के मुद्दे पर विरोध हो रहा है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अरुणाचल प्रदेश की राजधानी ईटानगर के लिए होलोंगी में ग्रीन फील्ड एयरपोर्ट की आधारशिला रखेंगे. इसके अलावा प्रधानमंत्री सेला टनल की भी आधारशिला रखेंगे. पीएम मोदी अरुणाचल प्रदेश को समर्पित दूरदर्शन के चैनल डीडी अरुण प्रभा का उद्घाटन करेंगे. इसके अलावा, आयुष्मान भारत के तहत 50 हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर का लोकार्पण करेंगे. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी त्रिपुरा दौरे के दौरान अगरतला एयरपोर्ट पर त्रिपुरा के महाराजा बीर विक्रम माणिक्‍य किशोर की प्रतिमा का अनावरण करेंगे. दरअसल, 2018 में केंद्र सरकार ने अगरतला एयरपोर्ट का नाम बदलकर बीर विक्रम माणिक्‍य किशोर एयरपोर्ट किया था. इसके बाद पीएम मोदी एक जनसभा को भी संबोधित करेंगे.

विवादास्पद विधेयक के खिलाफ प्रदर्शन की अगुवाई कर रहे कृषक मुक्ति संग्राम समिति (केएमएसएस) प्रमुख अखिल गोगोई ने कहा कि ‘विधेयक बांग्लादेश से आये हिन्दू बंगालियों को नागरिकता देने और 2019 के लोकसभा चुनाव में उनका वोट पाने के लिए लाया गया है.’ केएमएसएस नेता ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी की देश में स्थिति ठीक नहीं है और उनकी रणनीति पश्चिम बंगाल और पूर्वोत्तर से अधिकतम सीटें जीतने की है. उन्होंने कहा कि इसलिए भाजपा ने नागरिकता संशोधन विधेयक की राह चुनी. 1टिप्पणियां


loading...