आखिर क्यों देने पड़ते हैं इस पेड़ के नीचे से निकलने वालों को तीन डॉलर? ये है वजह…

इस बात में कोई दो राह नहीं कि पेड़ का हमारे जीवन में अलग ही महत्व है और इनसे हमें जीवन दान मिलता है. ऑक्सीजन का सबसे बड़ा स्त्रोत पेड़ हमें सांस लेने में बहुत बड़ा सहायक है. इनके बारे में जानने इसलिए भी हमारी रुचि का विषय रही है. आजतक इनकी कीतनी ही प्रजातियों के बारे में वैज्ञानिकों ने खोज की और आज भी कई ऐसी प्रजातियां हैं जिनके बारे में हम अवगत नहीं है. दुनिया में कई ऐसे रहस्यमई और अनोखे पेड़ मौजूद है, जिसकी उत्पति हर किसी के लिए पहेली बन गई है. आइए जानते है दुनिया के 6 अनोखे पेड़ो के बारें में विस्तार से.

जनरल शरमन
कैलिफोर्निया के सिक्योइया नेशनल पार्क में एक अनोखा पेड़ मौजुद है, जिसे लगभग 2300 से 2700 साल पुराना माना जाता है. लाल लकड़ी वाला ये पेड़ 275 फीट ऊंचा और 25 फीट मोटा है. इतने साल पुराने होने की वजह से जनरल शरमन पेड़ पार्क में आने वाले पर्यटकों को अपना दीवाना बना देता है. इस पेड़ का नामकरण अमेरिकी नागरिक युद्ध के जनरल शरमन के नाम पर किया गया है. अपने खूबसूरत आकार और इतिहास की वजह से शरमन पेड़ लंबे समय से पेड़ो की शान बना हुआ है.
अब भारत की ये फिल्में बिखेरेंगी 70वें बर्लिन अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव में अपना जलवा
वोलेमी पाइन
वैज्ञानिकों का ऐसा मानना है कि किसी समय धरती पर डायनासोर वास करते थे. आज के समय में भी एक जीवत डायनासोर है. जिसका नाम है वोलेमी पाइन, ये कोई डायनासोर नही बल्कि एक वृक्ष है. इस पेड़ के जीवश्म 20 करोड़ साल पुराने है. इसलिए दुनिया के लिए वोलमी पाइन पेड़ रहस्य बना हुआ है. वोलमी पाइन पेड़ को पहली बार 1994 में वैज्ञानिकों द्वारा खोजा गया. करोड़ो साल पुराने होने की वजह से वोलेमी पाइन हर इंसान के लिए कई सवाल खड़े करता है.
शांडेलियर
लाल लकड़ी वाले पेड़ो की चमक हर किसी को लुभाती है. अमेरिका के सैन फ्रांसिस्को से 175 मील उत्तर में एक ऐसा विशालकाय पेड़ मौजुद है, जिसके नीचे से निकलने के लिए 3 डॉलर का भुगतान करना पड़ता है. इस अनोखे पेड़ का नाम शांडेलियर है. शौकीन लोगों की गाड़ी इस पेड़ के नीचे से निकालने के लिए निर्माताओं ने पेड़ के निचले हिस्से को सुरंगनुमा आकार दिया है. सुरंगनुमा आकार और विशालकाय होने की वजह शांडेलियर वृक्ष लंबे समय से पर्यटकों का ध्यान आकर्षित कर रहा है.
‘संजीवनी 2’ के बंद होने की खबर पर शो के निर्माता ने किया ये खुलासा…
पांडो
पेड़ो के इतिहास में 80000 हजार साल पुराने पेड़ पांडो को कोई नही भुल सकता है, क्योकि अतिविशालकाय और बेहद वजनी वृक्षों में पांडो का नाम आता है. 60 लाख किलोग्राम के वजन के साथ ये पेड़ जमीन पर खड़ा है. 40,000 तनाएं वाला ये वृक्ष पांडो उटाह के दक्षिण-पश्चिम हिस्से में पाया जाता है, जो फिश लेक से लगभग एक मील की दूरी पर स्थित है. इस दुलर्भ पेड़ में एक और खासियत है, जिसे हर किसी को याद रखने की आवश्यकता है. और वह यह है कि, इस पेड़ की शाखाओं में से ही दूसरा पेड़ जन्म लेता है. क्योकि पांडो की तनाएं एकल रूप से मरती हैं.
द तूल
जनरल शरमन पेड़ की तरह एक और पेड़ मैक्सिकन राज्य सैंटा मारिया में मौजूद है. इस पेड़ ने जनरल शरमन पेड़ को भी पीछे छोड़ दिया है, क्योकि शरमन पेड़ के मुकाबले इस मोटाई 119 फीट है. इस मोटाई और 2,000 साल पुराना होने की वजह से पेड़ ने हर पर्यटक का ध्यान खीचा है. 116 फीट ऊंचाई वाले द तूल वृक्ष का नाम एई अरबो दे तूल’ से मिला है. ऐसा माना जाता है कि इस पेड़ को 1400 साल पहले एज्टेक स्टॉर्म नाम के फरीश्ते ने लगाया था. मैक्सिको देश में ये पेड़ अपने आप में कई राज संजोए हुए है.
बहराइन
दुनिया के मरुस्थलिय इलाके में एक ऐसा पेड़ मौजुद है, जिसकी आयु का कोई भी सही अनुमान नही लगा पाया है. हम जिस पेड़ की बात कर रहे है, उसके आसपास दूर-दूर तक कोई दूसरा पेड़ नजर नही आता है. इस दुलर्भ वृक्ष को बहराइन नाम से जाना जाता है. इस पेड़ के बारें में कुछ लोगो का मानना है,कि ये 400 साल पुराना है.
 
The post आखिर क्यों देने पड़ते हैं इस पेड़ के नीचे से निकलने वालों को तीन डॉलर? ये है वजह… appeared first on Live Today | Hindi TV News Channel.

loading...