कांग्रेस विधायक अदिति की बीजेपी में जाने की अटकलें, सपा-बसपा के एक-एक विधायकों ने भी की बगावत

लखनऊ. रायबरेली सदर से कांग्रेस विधायक अदिति सिंह समेत सपा और बसपा के एक-एक विधायकों के बीजेपी में शामिल होने की अटकलें एक बार फिर तेज हो गई है. दरअसल, राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की 150वीं जयंती के मौके पर 36 घंटे के लिए बुलाए गए विधानसभा के विशेष सत्र का कांग्रेस, सपा व बसपा ने बहिष्कार किया था. लेकिन बावजूद कांग्रेस की अदिति सिंह, बसपा के अनिल सिंह और सपा के  नितिन अग्रवाल पार्टी लाइन से अलग होकर विशेष सत्र में शामिल हुए. जिसके बाद से कयासों का बाजार गर्म हैं.

खासकर अदिति सिंह को लेकर चर्चा काफी तेज है, क्योंकि बुधवार को ही कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी का लखनऊ में पैदल मार्च था, लेकिन वह उसमें शामिल न होकर देर शाम विधानसभा के विशेष सत्र में पहुंच गयी. इतना ही नहीं, उन्होंने सत्र की चर्चा में हिस्सा भी लिया. अब बीजेपी का कहना है कि अगर अदिति बीजेपी के नीतियों से प्रभावित होकर पार्टी में आती हैं तो उनका स्वागत है.

क्या कहा अदिति ने?

कांग्रेस पार्टी की तरफ से अकेले विधानसभा कार्यवाही में पहुंची अदिति ने चर्चा में हिस्सा लेते हुए कहा कि प्रदेश में पानी और गरीबी की कई समस्याएं हैं. साफ-सफाई और पानी जैसी समस्याओं पर मैंने हमेशा काम किया. प्रदेश के कई जनपदों में आर्सेनिक पानी की समस्या है, जिसके लिए मैं चाहती हू टंकी लगनी चाहिए। रेन वाटर हार्वेस्टिंग समेत पानी के लिए बड़े पैमाने पर काम होना चाहिए. सौर ऊर्जा और वैकल्पिक ऊर्जा के विभिन्न स्रोतों पर काम होना चाहिए. कांग्रेस की पदयात्रा में शामिल न होकर विशेष सत्र में आने पर अदिति ने कहा “चाहे वह धारा 370 रही हो या अन्य कोई बात, उन्होंने सरकार का समर्थन किया है. मैं एक पढ़ी लिखी विधायक हूं, जो चीज मुझे सही लगी उस पर मैंने अपनी बात रखी है. बता दें कुछ दिन पूर्व ही अदिति के बाहुबली पिता अखिलेश सिंह का निधन हुआ था. जिसके बाद से अदिति सिंह की बीजेपी से नजदीकियां बताई जा रहीं हैं.

अदिति व अन्य पार्टयियों के विधायकों के शामिल होने पर संसदीय कार्य मंत्री सुरेश खन्ना ने कहा, “अदिति सिंह समेत बसपा के अनिल सिंह और भी अलग दल के कई विधायक आये. गांधी जी की जयंती पर आयोजित इस विशेष सत्र में सबका स्वागत है. विपक्ष शायद गांधी जी को नही मानता है, इसलिए नहीं आया.”

सपा-बसपा के एक-एक विधायकों ने भी की बगावत

सपा और बसपा ने भले ही विशेष सत्र का बहिष्कार किया हो, लेकिन उसके एक-एक विधायक पार्टी लाइन से अलग हटकर पहुंचे. हरदोई से सपा विधायक नितिन अग्रवाल ने चर्चा में भाग लेते हुए कहा कि विपक्षी नेता तब सदन छोड़ कर भाग जाते हैं जब जनता के हितों की बात होती है. 2017 और 2019 में जनता उन्हें सबक सीखा चुकी है. आगे भी सिखाएगी. उन्नाव की पुरवा सीट से बसपा विधायक अनिल ने पार्टी से बगावत करते हुए कहा जिस तरह पुत्र को पिता की जरुरत होती है, वैसे ही भारत को मोदी की जरुरत है. पिछली सरकारों में राजनीति भोग और पैसा कमाने का जरिया था.

loading...