गृह मंत्री अमित शाह ने की साइबर सिक्योरिटी मजबूत करने लिए की अहम् बैठक…

भारत के गृह मंत्री अमित शाह ने गुरुवार साइबर सेक्योरिटी को और मजबूत करने के लिए नेशनल इंटेलीजेंस ग्रिड के अधिकारीयों के साथ बैठक की हैं. वहीं आला अधिकारी भी मौजूद रहे.

खबरों के मुताबिक सभी सुरक्षा बलों के इंटेलीजेंस विंग से कोऑर्डिनेशन करने पर भी जानकारी दी गई. नेटग्रिड की बैठक का एक अहम मुद्दा ये भी है कि आतंकी जिस तरीके से हाईटेक हुए हैं. लेकिन उनके रूटीन वायरलेस बंद हो गए हैं, ऐसे में आतंकी नई फ्रीक्वेंसी और कोडवर्ड का इस्तेमाल करते हैं. इस पर नई टेक्नोलॉजी के जरिए डिकोड करने पर भी बातचीत हुई.

दरअसल गृह मंत्री न सिर्फ नेटग्रिड को पुनर्जीवित करना चाहते हैं बल्कि साल के अंत तक यह काम करना शुरू भी कर देगी. सूत्रों के अनुसार, नेटग्रिड में दो लोगों को इसकी जिम्मेदारी दी गई है कि वे पता लगाएं कि आखिर इस प्रोजक्ट में बाधा कहां आ गई.

जहां पहले सौरभ गुप्ता हैं जिन्हें ढाई महीने पहले ही नेटग्रिड में नियुक्त किया गया है. दूसरे आशीष गुप्ता हैं जो जॉइंट सेक्रेटरी हैं और पुराने सरकारी मुलाजिम हैं. इन पर साल 2014 से नेटग्रिड को जीवंत करने का जिम्मा है जब से अशोक पटनायक इसके सीईओ बने हैं.

loading...