पीएम मोदी के लिए तैयार हो रहा नया विशेष विमान, होंगी ये खूबियां

नई दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का विशेष विमान (Special Aircraft) अब एअर इंडिया का न होकर एयरफोर्स का हो सकता है. इस विमान की खास बात ये है कि इस पर किसी भी मिसाइल का असर नहीं होता है. प्रधानमंत्री को मिलने वाला ये विमान जून 2020 तक भारत में आ जाएगा. खबर है कि लंबी दूरी के दो बोइंग 777-300ER विमान भारतीय वायुसेना के बेड़े में शामिल होंगे ना कि एअर इंडिया को मिलेंगे.

विमान में एंटी मिसाइल तकनीक लगी होगी. खबर के मुताबिक अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप बोइंग 747-200B विमान का इस्तेमाल करते हैं. इसके बाद अब भारत के प्रधानमंत्री के लिए भी बोइंग 777-300ER विमान लाने की तैयारी तेज कर दी गई है.

इस विमान को एअर इंडिया के बजाय भारतीय वायु सेना के नियंत्रण में रखा जाएगा. दरअसल सरकार ने एयर इंडिया में अपने हिस्से को विभाजित करने की प्रक्रिया पहले ही शुरू कर दी है. सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक दो बोइंग 777 विमानों को लेने वाली एजेंसी पर निर्णय लिया जाना अभी बाकी है. अगर ऐसा होता है तो प्रधानमंत्री के विमान का कॉल साइन भी एअर इंडिया वन से एयर फोर्स वन में बदल जाएगा.

दो बोइंग 777-300ER विमान को मंगाने के पीछे का मुख्य कारण ये है कि इसका इस्तेमाल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू करेंगे. अभी तक ये सभी लोग एअर इंडिया के बोइंग बी 747 विमान का इस्तेमाल करते हैं. बताया जाता है कि सुरक्षा के मामले में ये विमान अमेरिका के राष्ट्रपति के विमान के बराबर होगा. इस विमान की खास बात ये होगी कि ये ईंधन भरने के बाद बिना रुके भारत और अमेरिका के बीच उड़ान भर सकेगा.

19 करोड़ डॉलर का हुआ है समझौता

बताया जाता है कि इस विमान में लगने वाले दो मिसाइल डिफेंस सिस्टम को बेचने के लिए अमेरिका सहमत हो गया है. एंटी मिसाइल तकनीक को नए विमान में लगाने के लिए करीब 19 करोड़ डॉलर का समझौता किया गया है.

किसी भी मिसाइल का नहीं होगा असर

एंटी मिसाइल तकनीक भारत के नए बोइंग 777-300ER को सुरक्षा कवच प्रदान करेगा. इस सिस्टम की खास बात ये है कि यह चालक दल के एक्शन में आने से पहले ही अपना काम करना शुरू कर देता है. पायलट को बस इस बारे में सूचना दी जाएगी कि एक मिसाइल का पता चला है और सिस्टम उसे वहीं पर जाम कर देगा.

loading...