फांसी से पहले आखिर जल्लाद क्या कहता है आरोपी के कान में ?

हम सभी बॉलीवुड फिल्मों में दिखाई गई बातों को ज्यादातर सच मानते हैं और कई बार देखा होगा कि उनमें दिखाया जाता है कि और ऐसा असल में भी होता है कि अपराधी को सुबह के वक्त फांसी दी जाती है, हालांकि कभी आपने यह सोचा है कि आखिर क्यों फांसी की सजा सबको सुबह ही मिलती है. आज हम इससे जुड़ा कारण आपसे साझा कर रहे हैं.

 
आरोपी को फांसी दिए जाने से पहले जेल प्रशासन अपराधी से उसकी आखिरी ख्वाहिश पूछता है. लेकिन कैदी की ख्वाहिश जेल मैन्युअल के तहत हो, तभी वह पूरी की जाती है. जबकि फांसी देने से पहले जल्लाद आरोपी से कहता कि मुझे माफ कर दिया जाए, हिंदू भाईयों को राम-राम और मुसलमान भाइयों को सलाम. हम क्या कर सकते हैं हम तो हैं हुक्म के गुलाम.
China Open 2019: भारत की जोड़ी ने दिखाया कमाल, दुनिया की 7वें नंबर की जोड़ी को हराया
बता दें कि फांसी देने के बाद 10 मिनट तक अपराधी को लटके रहने दिया जाता है और इसके बाद डॉक्टरों की टीम यह चेक करती है कि आरोपी की मौत हुई है या नहीं, मौत की पुष्टि होने के बाद ही अपराधी को फंदे से नीचे उतारा जाता है. साथ ही आपको यह भी बता दें कि फांसी के समय जेल अधीक्षक, कार्यकारी मजिस्ट्रेट और जल्लाद की मौजूदगी भी जरुरी होती है और इनमें किसी एक के भी ना होने पर फांसी नहीं दी जा सकती है. फांसी का समय सुबह का इसलिए रहता है क्योंकि जेल नियमावली के तहत जेल के सभी कार्य सूर्योदय के बाद ही होते हैं और फांसी के कारण जेल के बाकी कार्य प्रभावित न हों, इसलिए सुबह-सुबह कैदी को फांसी मिलती है. फांसी देने के बाद शव को उसके परिजनों को सौंप दिया जाता है.

The post फांसी से पहले आखिर जल्लाद क्या कहता है आरोपी के कान में ? appeared first on Live Today | Hindi TV News Channel.

loading...