राहुल ने दिल्ली में AAP को 4 सीटों की पेशकश की,कहा- गठबंधन दरवाजा अभी भी खुला

नई दिल्ली
दिल्ली में कांग्रेस और आम आदमी पार्टी के बीच संभावित गठबंधन एक अबूझ पहेली बन गई है। गठबंधन को लेकर दोनों पार्टियों के बीच हां-ना, हां-ना के बीच कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने AAP के सामने खुली पेशकश की है। 7 सीटों वाली दिल्ली में आम आदमी पार्टी के लिए 4 सीटों की पेशकश करते हुए राहुल ने कहा है कि अब बारी AAP की है। कांग्रेस अध्यक्ष ने केजरीवाल पर यू-टर्न लेने का भी आरोप लगाया है। इसके जवाब में केजरीवाल ने राहुल पर बीजेपी की मदद का आरोप लगाया है। 

मोदी और शाह को रोकने के लिए हर कुर्बानी के लिए तैयार होने संबंधी अरविंद केजरीवाल के बयान के एक दिन बाद राहुल गांधी ने ट्वीट कर कहा कि गठबंधन के लिए दरवाजे अभी भी खुले हुए हैं। गांधी ने ट्वीट किया, ‘दिल्ली में कांग्रेस और AAP के बीच गठबंधन का मतलब है बीजेपी की जबरदस्त हार। कांग्रेस इसे सुनिश्चित करने के लिए दिल्ली में AAP को 4 सीट देना चाह रही है। लेकिन केजरीवाल ने एक और यू-टर्न ले लिया! हमारे दरवाजे अभी भी खुले हैं, लेकिन समय बीता जा रहा है।’ राहुल ने ट्वीट के साथ ‘अब AAP की बारी’ हैशटैग भी लगाया है। 

बीजेपी को रोकने के लिए दिल्ली में कांग्रेस और आम आदमी पार्टी के बीच गठबंधन की लंबे वक्त से अटकलें चल रही हैं। आम आदमी पार्टी गठबंधन के लिए कांग्रेस से पंजाब और हरियाणा में भी कुछ सीटें मांग रही है। एक समय तो दोनों पार्टियों के बीच गठबंधन लगभग तय था, बस ऐलान होने की देरी थी। लेकिन पेच फंस गया। राहुल गांधी के ट्वीट से भी स्पष्ट है कि दोनों दलों में सीट शेयरिंग पर संभवतः सहमति हो गई थी लेकिन अरविंद केजरीवाल ने बाद में ‘यू-टर्न’ ले लिया। 

‘यू-टर्न’ के आरोप पर केजरीवाल का पलटवार
खुद पर यू-टर्न लेने के राहुल गांधी के आरोपों पर अरविंद केजरीवाल ने भी पलटवार किया है। केजरीवाल ने तो कांग्रेस पर यूपी और अन्य राज्यों में बीजेपी की मदद करने का आरोप लगा दिया। दिल्ली के मुख्यमंत्री ने ट्वीट कर कहा कि गठबंधन की राहुल की इच्छा महज दिखावा है। 

केजरीवाल के ट्वीट के बाद कांग्रेस के दिल्ली प्रभारी पी. सी. चाको ने कहा कि AAP दिल्ली से बाहर 18 सीटों पर गठबंधन चाहती है। उन्होंने कहा कि पहले दिल्ली पर तो बात हो जाए। चाको ने दो टूक कहा कि एक राज्य में गठबंधन के फॉर्म्युले को दूसरे राज्य में लागू नहीं किया जा सकता।

दिल्ली में 23 अप्रैल तक भरे जाएंगे पर्चे
बता दें कि दिल्ली में छठे चरण में 12 मई को वोटिंग है। इसके लिए 16 अप्रैल से नामांकन शुरू हो जाएगा। 23 अप्रैल नामांकन की आखिरी तारीख है। AAP-कांग्रेस के संभावित गठबंधन की वजह से बीजेपी ने भी दिल्ली में अपने उम्मीदवारों के नाम का ऐलान नहीं किया है। 

loading...