17 महीनों के सबसे न्यूनतम स्तर आईआईपी ग्रोथ

नई दिल्ली। मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर खासकर उपभोक्ता एवं पूंजीगत वस्तुओं के उत्पादन में गिरावट की वजह से नवंबर में देश का आईआईपी ग्रोथ घटकर 0.5 फीसदी रहा, जिसके साथ ही यह 17 महीने के निचले स्तर पर पहुंच गया है।

केंद्रीय सांख्यिकी कार्यालय (सीएसओ) द्वारा जारी आंकड़ों के मुताबिक, औद्योगिक उत्पादन सूचकांक (आईआईपी) आधारित औद्योगिक उत्पादन की वृद्धि दर नवंबर 2017 में 8.5 फीसदी रही थी।
इससे पहले, जून 2017 में आईआईपी ग्रोथ घटकर 0.3 फीसदी रही थी। अक्टूबर 2018 के लिए आईआईपी ग्रोथ ऊपर की तरफ संशोधित होकर 8.1 फीसदी से 8.4 फीसदी हो गया।
सूचकांक में 77.63 फीसदी की हिस्सेदारी रखने वाले मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर में 0.4 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई, जबकि एक साल पहले की समान अवधि में इसमें 10.4 फीसदी की वृद्धि दर्ज की गई थी। समीक्षाधीन अवधि में खनन क्षेत्र में 2.7 फीसदी की वृद्धि दर्ज की गई, जबकि नवंबर 2017 में यह आंकड़ा 1.4 फीसदी था।
वहीं, पावर सेक्टर में भी 5.1 फीसदी की वृद्धि दर्ज की गई, जो पिछले साल की समान अवधि में 3.9 फीसदी था।
देश छोड़ते ही राहुल ने बदला रंग, दिखाया नया स्टाइल
पूंजीगत वस्तुओं की उत्पादन दर में 3.4 फीसदी की गिरावट आई है, जबकि पिछले साल की समान अवधि में 3.7 फीसदी की वृद्धि दर्ज की गई थी। उपभोक्ता वस्तु उत्पादन दर में भी 0.6 फीसदी की गिरावट आई है, जबकि पिछले साल की समान अवधि में इसमें 23.7 फीसदी की वृद्धि दर्ज की गई थी।
उद्योगों की बात करें, तो नवंबर 2018 में न्युफैक्चरिंग सेक्टर में 23 उद्योग समूह में से 10 में सकारात्मक वृद्धि दर्ज की गई।
The post 17 महीनों के सबसे न्यूनतम स्तर आईआईपी ग्रोथ appeared first on Live Today | Hindi TV News Channel.

loading...