Uttarakhand: पहली बार भेजी गई 402 यात्रियों को लेकर दून से ट्रेन, लोगों ने सरकार का जताया आभार

उत्तराखंड। लॉकडाउन होने के बाद से अबतक कई दूसरे राज्यों में फंसे हुए यात्रियों और प्रवासियों को उनके घर भेजा गया है. बात करें उत्तराखंड की तो जब से लॉकडाउन हुआ है अबतक 45000 प्रवासियों को वापिस लाया गया है. अब पहली बार दून रेलवे स्टेशन से मणिपुर के 402 यात्रियों को लेकर ट्रेन रवाना की गई। जिसमें ज़्यादातर छात्र और पर्यटक शामिल थे, जो लॉकडाउन के बाद यहीं फंस गए थे. यात्रियों ने भेजे जाने को लेकर केंद्र और राज्य सरकार का आभार जताया है.

 
 
भविष्य की चिन्ता और चेहरे पर उदासी के साथ मैदानों से प्रवासियों का लौटना जारी
कर्णप्रयाग के पहाड़ों से रोजगार की तलाश में मैदानी क्षेत्रों में गये युवाओं का लौटना लगातार जारी है। लंबी यात्रा के बाद चेहरे की उदासी और भविष्य की चिन्ताएं प्रवासियों के चेहरे पर साफ दिख रही हैं। बाहर से आ रहे युवकों का कहना है कि वे मैदानों में फैक्ट्रियों व कंपनियों में में काम करते हैं। लेकिन लॉकडाउन के वहां दौरान कामधाम बंद हो गया। मेहनत से जो पैसा बचाया था वह भी खर्च हो गया। अब घर ही एकमात्र सहारा रह गया है।
चक्रवात अम्फान: गृहमंत्री ने की ममता से बात,दिया मदद करने का भरोसा…
चमोली जिले में बाहरी प्रदेशों से आए 1327 प्रवासी फैसलिटी क्वारंटीन में हैं। प्रशासन ने इन प्रवासियों को गौचर, कर्णप्रयाग, मंडल, गैरसैण, ग्वालदम, जोशीमठ भराडीसैंण, पीपलकोटी में फेसलिटी क्वारंटीन किया है। इसके अलावा 5757 लोगों को होम क्वारंटीन किया गया है।
23 मोबाइल टीमें बनाई गई हैं
होम क्वारंटीन लोगों के स्वास्थ्य परीक्षण के लिए गठित 23 मोबाइल टीमें बनाई गई हैं। जो गांवों में जाकर क्वारंटीन लोगों के स्वास्थ्य की जांच कर रहे हैं। तीन मई से अब तक चमोली जिले में 12810 प्रवासियों की घर वापसी हो चुकी है। इनमें से 5027 प्रवासियों को राज्य सरकार ने बसों से चमोली जिले में पहुंचाया है। रुद्रप्रयाग जनपद में अभी तक पांच हजार से अधिक प्रवासी लौट चुके हैं।
 
ग्राम प्रधान बने संकट मोचक
 
गांवों में प्रवासियों की व्यवस्था का जिम्मा ग्राम प्रधानों के पास है। कम संसाधनों के बावजूद वे उनको सरकारी स्कूलों व पंचायतघरों पर होम क्वारंटीन में रखने, भोजन की व्यवस्था और उनका लेखजोखा का काम बखूबी निभा रहे हैं।
 
होम क्वारंटीन का उल्लंघन करने वालों पर होगी कार्रवाई
डीएम स्वाति एस भदौरिया ने ग्राम प्रधानों को होम क्वारंटीन में रह रहे लोगों पर नियमित नजर रखने और इसका पालन न करने वाले की सूचना तत्काल संबधित थाना एवं राजस्व उप निरीक्षक को उपलब्ध कराने को कहा है। उन्होंने निर्देश दिए कि होम क्वारंटीन का उल्लंघन करने वालों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराते हुए तत्काल उठाकर इन्स्टिट्यूशनल क्वारंटीन करना सुनिश्चित किया जाए। बताया कि प्रत्येक गांव में होम क्वारंटीन लोगों पर निगरानी रखने के लिए शासकीय कार्मिकों की भी तैनाती की गई है।
 
The post Uttarakhand: पहली बार भेजी गई 402 यात्रियों को लेकर दून से ट्रेन, लोगों ने सरकार का जताया आभार appeared first on Live Today | Hindi TV News Channel.

loading...