VIRAL हुआ सोनभद्र हत्याकांड पर मायावती का ट्वीट, कहा- ‘विफलता छिपाने के लिए यूपी सरकार वहां किसी को नहीं जाने दे रही’

नई दिल्ली: बहुजन समाज पार्टी (बसपा) सुप्रीमो मायावती ने शनिवार को कहा कि उत्तर प्रदेश सरकार अपनी विफलता को छिपाने के लिए धारा 144 का सहारा लेकर किसी को सोनभद्र नहीं जाने दे रही है. मायावती ने इस संबंध में ट्वीट किया है. मायावती ने लिखा: “यूपी सरकार जान-माल की सुरक्षा व जनहित के मामले में अपनी विफलता को छिपाने के लिए धारा 144 का सहारा लेकर किसी को सोनभद्र जाने नहीं दे रही है.” उन्होंने कहा, ”’फिर भी उचित समय पर वहां जाकर पीड़ितों की यथासंभव मदद कराने का बसपा विधानमण्डल दल को निर्देश दिया गया है. इस नरसंहार का मुख्य कारण सरकारी लापरवाही है.”

मायावती ने कहा कि सोनभद्र में आदिवासी समाज का उत्पीड़न व शोषण, उनकी जमीन से बेदखली व अब नरसंहार उत्तर प्रदेश की भाजपा सरकार की कानून-व्यवस्था के मामले में विफल होने का पक्का प्रमाण है. उन्होंने कहा, ”’यूपी ही नहीं, देश की जनता भी इन सबसे अति-चिन्तित है जबकि बसपा की सरकार में एसटी तबके के हितों का खास ख्याल रखा गया.”

इससे पहले मायावती ने अपने भाई आनंद कुमार तथा उनकी पत्नी पर प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) के छापे पर तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त की है थी. उन्होंने इसके लिए भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) को जिम्मेदार ठहराते हुए इसे ‘छापे को राजनीति’ से प्रेरित बताया था. मायावती ने शुक्रवार को पत्रकारों से कहा था, “भाजपा मेरे भाई तथा बसपा उपाध्यक्ष आनंद कुमार को जानबूझ कर परेशान करने में लगी है. उन्हें परेशान करने के लिए तरह-तरह के हथकंडे अपनाए जा रहे हैं. यह छापे राजनीति से प्रेरित हैं इसके लिए भाजपा जिम्मेदार है.”

उन्होंने कहा था कि वर्तमान की भाजपा सरकार पहले अपने गिरेबान में झांककर देखे. उन्होंने कहा भाजपा के पास 2,000 करोड़ रुपए से ज्यादा की बेनामी संपत्ति आई और उसी संपत्ति से उन्होंने लोकसभा चुनाव में गरीबों के वोट खरीदे. मायावती ने कहा था, “अटल जी (अटल बिहारी वाजपेयी) की सरकार को छोड़ दो तो पिछली सभी सरकारें और वर्तमान में (प्रधानमंत्री) नरेंद्र मोदी व (गृह मंत्री) अमित शाह की जोड़ी मिलकर वंचितों को दबाने का कार्य कर रही हैं. चुनाव में भाजपा ने गरीबों के वोट खरीदे, इस बात का सबूत है कि चुनाव के दौरान भाजपा के खाते में 2,000 करोड़ रुपए आए.”

loading...